प्रवचन

कालचक्र आनुष्ठानिक नृत्य
कालचक्र आनुष्ठानिक नृत्य

स्थान: लेह, लद्दाख, जम्मू एवं कश्मीर, भारत
दिनांक: जुलाई ९, २०१४
अवधि: १ घंटा और ७ मिनट
भाषाएँ: तिब्बती

परम पावन दलाई लामा के ३३वें कालचक्र अभिषेक के सातवें दिन कालचक्र आनुष्ठानिक नृत्य नमज्ञल विहार के भिक्षुओं द्वारा लेह, लद्दाख, जम्मू एवं कश्मीर, भारत - जुलाई ९, २०१४ को लगभग १००,००० जन समुदाय के समक्ष प्रदर्शित िकया जाता है। परम्परानुसार जब भिक्षु मंत्र पाठ और नृत्य करते हैं, मंच के समक्ष साधारण लोगों द्वारा भी गीत तथा नृत्य समर्पित किए जाते हैं।

परम पावन दलाई लामा द्वारा तिब्बती चिकित्सा व ज्योतिष संस्थान के अनुरोध पर मार्च ३१, २०१४ को मुख्य तिब्बती मंदिर में भैषज्य बुद्ध का अभिषेक।
परम पावन दलाई लामा द्वारा तिब्बती चिकित्सा व ज्योतिष संस्थान के अनुरोध पर मार्च ३१, २०१४ को मुख्य तिब्बती मंदिर में भैषज्य बुद्ध का अभिषेक।

स्थान: मुख्य तिब्बती मंदिर, धर्मशाला, हि. प्र., भारत
दिनांक: मार्च ३१, २०१४
अवधि: २ घंटे, ४५ मिनट
भाषाएँ: अंग्रेज़ी

बोधिसत्वचर्यावतार
बोधिसत्वचर्यावतार

स्थान: मुख्य तिब्बती मंदिर
दिनांक: सितम्बर ३ से ५, २०१३ तक
अवधि: ३ सत्र, प्रत्येक लगभग ३ घंटे के
भाषाएँ: अंग्रेज़ी, तिब्बती

परम पावन दलाई लामा द्वारा एक दक्षिण पूर्व एशियायी वर्ग के अनुरोध पर आचार्य शांतिदेव के “बोधिसत्वचर्यावतार” के आठवें अध्याय से जारी रखते हुए धर्मशाला के मुख्य तिब्बती मंदिर में सितम्बर ३ से ५, २०१३ तक दिए जा रहे तीन दिवसीय प्रवचन। परम पावन तिब्बती में बोल रहे हैं, जिसका अंग्रेज़ी अनुवाद उपलब्ध है। जैसे जैसे सत्र उपलब्ध होंगे, उन्हें जोड़ा जाएगा।

“बोधिपथक्रम संक्षिप्तार्थ” तथा चोंखापा के “महातंत्रपथ” से “तंत्र का अवलोकन”
“बोधिपथक्रम संक्षिप्तार्थ” तथा चोंखापा के “महातंत्रपथ” से “तंत्र का अवलोकन”

स्थान: मुख्य तिब्बती मंदिर, धर्मशाला, हि. प्र., भारत
दिनांक: अगस्त २५ से २७ तक, २०१३
अवधि: २ सत्र, प्रत्येक लगभग साढे तीन घंटे
भाषाएँ: अंग्रेज़ी, तिब्बती, कोरियन

परम पावन दलाई लामा एक कोरियन वर्ग के अनुरोध पर चोंखापा के “बोधिपथक्रम संक्षिप्तार्थ” तथा चोंखापा के “महातंत्रपथ” से “तंत्र का अवलोकन” पर धर्मशाला, भारत के मुख्य तिब्बती मंदिर में अगस्त २५ से २७ तक दिए जा रहे तीन दिवसीय प्रवचन दे रहे हैं। परम पावन तिब्बती भाषा में बोलेंगे, जिसके कोरियन, अंग्रेज़ी, चीनी, वियतनामी और रूसी भाषा में अनुवाद उपलब्ध होंगे।

बोधिचर्यावतार
बोधिचर्यावतार

स्थान: मुख्य तिब्बती मन्दिर, धर्मशाला, भारत
दिनांक: जून 1-4, 2013
अवधि: समयावधिः 5 सत्र, प्रत्येक सत्र अनुमानतः 2 घंटे का
भाषाएँ: हिंदी और तिब्बती

कुछ भारतीय संघों के अनुरोध पर परम पावन दलाई लामा द्वारा धर्मशाला के मुख्य तिब्बती मंदिर में आचार्य शांतिदेव विरचित बोधिसत्वचर्य़ावतार पर जून 1-4 तक दिए गए चार दिवसीय प्रवचन का ऑडियो और वीडियो उपलब्ध होते ही इस में शामिल कर लिया जाएगा।

प्रारंभिक बौद्ध शिक्षाएँ
प्रारंभिक बौद्ध शिक्षाएँ

स्थान: मुख्य तिब्बती मन्दिर, धर्मशाला, भारत
दिनांक: जून 7-9, 2012
अवधि: समयावधिः 5 सत्र, प्रत्येक सत्र अनुमानतः 2 घंटे का
भाषाएँ: हिंदी और तिब्बती

भारतीय बौद्ध संघों के आग्रह पर परम पावन दलाई लामा द्वारा प्रारंभिक बौद्ध शिक्षाओं पर दिए गए प्रवचन । परम पावन द्वारा दिए गए तिब्बती भाषा प्रवचन का हिन्दी अनुवाद

 

खोजें