परम पावन दलाई लामा की पर्यावरण और सुख पर व्याख्यान देने हेतु मध्य प्रदेश की यात्रा

19 मार्च 2017

भारत को गांवों के विकास पर ध्यान देना चाहिए: दलाई लामा

भोपाल, मध्य प्रदेश, भारत, १९ मार्च २०१७ (पीटीआई) - भारत को समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए गांवों के विकास पर ध्यान देना चाहिए, तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने रविवार के दिन कहा "भारत की समृद्धि बड़े शहरों के विकास के बजाय गांवों के विकास पर निर्भर करती है। अतः विकास की यात्रा देश के ग्रामीण क्षेत्रों से प्रारंभ होनी चाहिए," दलाई लामा ने मध्य प्रदेश के देवास जिले के तुरनल गांव में एक सभा को बताया।

वे यहाँ 'नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा' में भाग लेने के लिए आए थे, जिसका लक्ष्य नर्मदा नदी का संरक्षण है।


"भारत मुख्य रूप से एक कृषि आधारित अर्थव्यवस्था है और देश के विकास के लिए ग्रामीण भारत को परिवर्तित किया जाना चाहिए।

"ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य और शिक्षा जैसी मूल सुविधाएँ विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए। गांवों में लोगों की सभी मूलभूत आवश्यकताओं को उपलब्ध कराया जाना चाहिए। भारत का रूपांतरण मात्र ग्रामीण परिवर्तन से होगा," दलाई लामा ने कहा।

तिब्बती आध्यात्मिक नेता ने विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं की अधिक भागीदारी की आवश्यकता पर भी बल दिया।

"महिलाएँ अधिक संवेदनशील और करुणा से भरी होती हैं। उनकी बढ़ती भागीदारी विश्व को एक बेहतर स्थान बनाएगी, क्योंकि वे गहन मानव मूल्यों को बढ़ावा देने को सुनिश्चित कर सकती हैं।" उन्होंने कहा।

मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा, जो स्वयं भी कार्यक्रम में भाग ले रहे थे, प्रारंभ किए गए नदी संरक्षण अभियान की प्रशंसा करते हुए दलाई लामा ने कहा कि जहाँ तक विश्वव्यापी तापक्रम वृद्धि का संबंध है, लोगों के समग्र रूप से सोचना चाहिए।

"विश्व भर में पर्यावरण परिवर्तित हो रहा है। हमारा दृष्टिकोण समग्र होना चाहिए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नर्मदा नदी के संरक्षण हेतु प्रयास कर रहे हैं। लोगों को ऐसे अभियानों को सफल बनाने के लिए सक्रिय रूप से भाग लेना चाहिए।"


तिब्बती आध्यात्मिक नेता ने कहा, "हमारे पूर्वज यहाँ पृथ्वी पर निवास कर रहे थे। हमारी भविष्य की पीढ़ी यहाँ रहेगी। हमें जल को बचाने, वृक्षारोपण करने की आवश्यकता है।"

उन्होंने कहा कि विश्व भर में लोग जातिवाद और रंगभेद के कारण समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

"हमें भेदभाव और अत्याचार के खिलाफ एकजुट होना चाहिए। संसार भर में कई सामाजिक समस्याओं के पीछे नस्लवाद और रंगभेद है। विश्व में हर व्यक्ति शांति और सुख से रहना चाहता है," उन्होंने आगे कहा।

दलाई लामा ने कहा कि प्रौद्योगिक क्रांति के बावजूद विश्व के सभी सात अरब लोगों की जल और भोजन जैसी बुनियादी जरूरतें एक समान हैं।

हिंसा, लापरवाही के कारण भुखमरी, अमीर -गरीब के बीच खाई: दलाई लामा

भोपाल, मध्यप्रदेश, भारत १९ मार्च २०१७ (पीटीआई): कई समस्याएँ, खासकर हिंसा और भूख, अमीर गरीब के बीच 'बहुत बड़ी खाई' के कारण हैं, तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने रविवार को कहा।

" दी आर्ट ऑफ हैप्पीनेस (आनन्दित होने की कला)  " पर अपने संबोधन के दौरान, भिक्षु ने कहा कि भारत में विभिन्न धर्मों के बीच सद्भाव है, जो विश्व में अद्वितीय है।


"सभी धर्म शांतिपूर्वक एक साथ रहते हैं (भारत में)। कभी-कभी, राजनीतिज्ञों के कारण कुछ समस्याएँ होती हैं ...पर वह भी समझ में आता है। मनुष्यों के बीच भी कुछ शरारती व्यक्ति हैं," दलाई लामा ने विनोदपूर्वक कहा, जिसे सुनकर लोग हँस पड़े।संघर्ष के अस्तित्व को स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा, "आज के विश्व में (बहुत) समस्याएँ हैं ... बड़ी आपदाओं से (जो कि काबू से बाहर हैं)। पर कई समस्याएँ, मुख्य रूप से हिंसा, हत्या और भुखमरी लापरवाही और अमीर और गरीबों के बीच एक बड़े अंतर के कारण हैं।"
दलाई लामा ने भारत में विभिन्न धर्मों के शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की सराहना की।
 
"भारत, यह देश...मुझे लगता है कि २००० से अधिक वर्षों से, इस धरती में जन्म लिए धर्मों के अलावा, बाहर से आए ईसाई धर्म, इस्लाम शांतिपूर्वक साथ साथ रहते आए हैं ... और मेरे विचार से यह अनूठा है। ऐसा किसी भी अन्य देश में नहीं है।" उन्होंने कहा।

तिब्बती आध्यात्मिक नेता ने भारतीयों से आग्रह किया कि वे बाहरी विश्व को दिखाएँ कि विभिन्न परम्पराएँ साथ रहते हुए फल फूल सकती हैं।

उन्होंने विश्व में आस्था के नाम पर हो रहे संघर्ष के बीच धार्मिक सद्भाव की वकालत की।


"सभी धर्म प्रेम और करुणा का संदेश देते हैं। कोई धर्म नहीं कहता कि ईश्वर क्रोध से भरा है। ईश्वर प्रेम से भरा है। हम ऐसे करुणाशील पिता (भगवान) की संतान हैं। सभी धर्मों का आधार सद्भाव है। पारस्परिक सम्मान," उन्होंने आगे कहा।
 
यह बताते हुए कि हिंसा, हत्या और भुखमरी मानव निर्मित है, दलाई लामा ने कहा, "हम इंसानों ने इन सब का निर्माण किया है। तो हम या तो उपेक्षा करें अथवा कुछ प्रयास करें। पर कोई भी समझदार व्यक्ति अनदेखा नहीं कर सकता। अतः उपेक्षा करना बिलकुल गलत है ... समस्याओं के प्रति उदासीनता गलत है," उन्होंने कहा।

यह कहते हुए कि धर्म औषधि के समान हैं जो रोगों को नष्ट करती है, दलाई लामा ने कहा कि, "मैं कभी नहीं कहता कि बौद्ध धर्म सबसे अच्छा धर्म है।"

उन्होंने ऐसी शिक्षा व्यवस्था की आवश्यकता को रेखांकित किया जो धर्मनिरपेक्षता, आंतरिक मूल्यों, प्रेम और करुणा पर आधारित हो, न कि किसी धर्म पर।

"मौजूदा शिक्षा प्रणाली भौतिकवादी है जो पर्याप्त नहीं है ... मुझे प्रेम की शिक्षा देने वाली मेरी प्रथम गुरु मेरी मां थी। मेरी मां बहुत दयालु थी। मैंने उन्हें कभी क्रोधित नहीं देखा, पर मेरे पिता को जल्दी गुस्सा आता था," उन्होंने स्मरण किया।

कभी कभी मैं उनकी मूंछें खींचता था और वे मेरी पिटाई करते थे, दलाई लामा ने विनोदपूर्वक कहा।

उन्होंने कहा कि प्यार और स्नेह माँ के हृदय से प्रारंभ होता है।

"माँ अपने नवजात शिशु को गोद में लेती है और शिशु प्रेम का उत्तर प्रेम से देता है। जिन लोगों को यह प्रेम नहीं प्राप्त होता, शोध के अनुसार, ऐसे लोग अविश्वास के साथ बड़े होते हैं। सुख को सुपरमार्केट में खरीदा नहीं जा सकता," दलाई लामा ने कहा।

उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पिछले वर्ष सुख का विभाग बनाने की सराहना की।

यह देखते हुए कि "वर्ण धर्म" तारीख से बाहर है," उन्होंने कहा कि जाति आधारित व्यवस्था सामंती मानसिकता पर आधारित थी और इसका उद्देश्य किसानों का शोषण करना था।

उन्होंने अतीत में भारत में तथाकथित निचली जातियों के लोगों के साथ हुए दुर्व्यवहारों के उदाहरणों का स्मरण किया।

"... अब विभिन्न आध्यात्मिक नेताओं द्वारा यह आवाज़ उठाने का समय आ गया है कि सभी समान हैं ... डॉ बी आर अंबेडकर ने महान योगदान दिया था। अद्भुत," उन्होंने कहा
 

खोजें