मथुरा में परम पावन का दूसरा दिन

परम पावन दलाई लामा के श्री उदासीन कार्ष्णि आश्रम की दो दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन के चित्र, मथुरा, उत्तर प्रदेश, भारत, मार्च २१, २०१७
View

मथुरा में परम पावन का दूसरा दिन

स्वागत

परम पावन चौदहवें दलाई लामा कार्यालय के आधिकारिक वेबसाइट में स्वागत। परम पावन तिब्बतीयों के सर्वोच्च आध्यात्मिक गुरु हैं। वे प्रायः कहते हैं कि उनका जीवन तीन प्रतिबद्धताओं से निर्देशित है: आधारभूत मानवीय जीवन मूल्यों का विकास अथवा मानवीय सुख के लिए धर्मनिरपेक्ष नैतिकता, धर्मों के बीच समन्वय की भावना और तिब्बती समुदाय के कल्याण का पोषण, जिस में उनकी अस्मिता, संस्कृति तथा धर्म पर केन्द्रितकर उन्हें जीवंत रखना।

यहाँ खोजें कि किस प्रकार परम पावन अपनी प्रतिबद्धताओं को अपनी विभिन्न गतिविधियों, अपने सार्वजनिक वक्तव्यों, व्यापक अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं तथा प्रकाशनों से पूरा करते हैं।


 

News RSS Feedनवीनतम समाचार

परम पावन दलाई लामा की पर्यावरण और सुख पर व्याख्यान देने हेतु मध्य प्रदेश की यात्रा परम पावन दलाई लामा की पर्यावरण और सुख पर व्याख्यान देने हेतु मध्य प्रदेश की यात्रा
March 19th 2017
भारत को गांवों के विकास पर ध्यान देना चाहिए: दलाई लामा भोपाल, मध्य प्रदेश, भारत, १९ मार्च २०१७ (पीटीआई) - भारत को समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए गांवों के विकास पर ध्यान देना चाहिए, तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने रविवार के दिन कहा "भारत की समृद्धि बड़े शहरों के विकास के बजाय गांवों के विकास पर निर्भर करती है। अतः विकास की यात्रा देश के ग्रामीण क्षेत्रों से प्रारंभ होनी चाहिए," दलाई लामा ने मध्य प्रदेश के देवास जिले के तुरनल गांव में एक सभा को बताया।

नव नालंदा महाविहार की यात्रा और अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन का दूसरा दिन
March 18th 2017

२१वीं सदी में बौद्ध धर्म की प्रासंगिकता पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन
March 17th 2017

धर्मशाला में सहस्र भुजा अवलोकितेश्वर अभिषेक
March 14th 2017

 

कार्यक्रम


२०१७

सार्वजनिक व्याख्यान, अप्रैल १, गुवाहाटी, असम, भारतः असम ट्रिब्यून के प्लेटिनम जयंती समारोह के समापन कार्यक्रम के अंतर्गत परम पावन आईटीए सेंटर फॉर पर्फोमिंग ऑर्ट्स में मध्याह्न ए ह्यूमन एप्रोच टु वर्ल्ड पीस (विश्व शांति पर एक मानवीय दृष्टिकोण) पर एक सार्वजनिक व्याख्यान देंगे।

व्याख्यान, अप्रैल ५ से ७, तवांग, अरुणाचल प्रदेश, भारत: परम पावन अप्रैल ५ और ६ की प्रातः यिगा छोजिन में कमलशील के भावनाक्रम और ज्ञलसे थोगमे संगपो के बोधिसत्व के ३७ अभ्यास पर प्रवचन देंगे। अप्रैल ७ की प्रातः परम पावन यिगा छोजिन में रिनजिन दोनडुब की दीक्षा प्रदान करेंगे। 

व्याख्यान, अप्रैल १०, दिरंग, अरुणाचल प्रदेश, भारत: परम पावन गेशे लंगरी थंगपा के चित्त शोधन के अष्ट पदों और गुरु योग पर प्रवचन देंगे और थुबसुंग दरज्ञेलिंग विहार में अवलोकितेश्वर अनुज्ञा प्रदान करेंगे। 


 

 

 

 
 

खोजें